अर्णब गोस्वामी के साथ खड़े हुए कंगना और कपिल मिश्रा का बयान , कितनों का गला दबाएगी सोनिया

आज हम आपको बहुत ही खास जानकारी देने जा रहे है अर्णब गोस्वामी को मुंबई पुलिस ने किया गिरफ्तार , तभी कंगना रनौत और बीजेपी के नेता कपिल मिश्रा ने सरकार की इस कारवाई पर सवाल उठाएं।

महाराष्ट्र सरकार से पूछा कि आज अर्णब गोस्वामी के घर में घुस कर पुलिस ने मारा-पीटा है और उनके बाल नोचे हैं, उस तरह से आप कितने घर तोड़ेंगे, कितने गले दबाएँगे और कितनों के बाल नोचेंगे? उन्होंने पूछा कि महाराष्ट्र सरकार कितनों की आवाज़ें दबाएँगी?

महाराष्ट्र की सरकार को कंगना रनौत ने सोनिया सेना करार देते हुए कहा कि उनसे पहले पता नही कितने लोगों के गले कटे और उन को लटका दिया सिर्फ फ्री के भाषण के लिए। अगर आप आज एक आवाज बंद करोगे तो कई आवाजें उठेंगी। कितनों लोगों की आवाज को बंद करोगे कंगना ने पूछा कि आपको कोई पेंगुइन, पप्पू सेना या सोनिया सेना कहता है तो गुस्सा क्यों आता है? उन्होंने कहा कि आप ये सब हो, तभी कोई कहता है।

बीजेपी के नेता कपिल मिश्रा ने इस बात की निदा की है कपिल मिश्रा ने कहा अर्णब गोस्वामी के पास जो पुलिस गयी है ऐसे पुलिस वाले अत्याचार मीडिया के खिलाफ पहली बार दिखा और कहा अर्णब गोस्वामी की गलती क्या है क्या दुनिया के सामने सवाल उठाना गलत है या फिर सच्चाई दुनिया को दिखानी गलत है।
उन्होंने पूछा कि अपने दम पर इतना बड़ा चैनल खड़ा कर देना गलती है या फिर बाकी चैनल पीछे छूट गए, इसकी सज़ा दी जा रही है।

कपिल मिश्रा ने आरोप लगाया कि अर्णब गोस्वामी के साथ-साथ मीडिया और मीडिया की आज़ादी को कुचलने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने अपील करते हुए कहा कि इस ‘लोकतंत्र की हत्या’ के खिलाफ किसी को भी चुप नहीं रहना चाहिए। उन्होंने इसे मीडिया का गला दबाने की कोशिश बताते हुए कहा कि हथियारबंद पुलिस एक पत्रकार के घर में घुस कर उनके घर को गाड़ियों से घेर कर दिखाना क्या चाहती है?

बीजेपी के नेता कपिल मिश्रा ने कहा कि इस तरह से कभी लोकतंत्र को चलाया नही जा सकता और महाराष्ट्र की सरकार को ये बात समझ आनी चाहिए

अब ‘एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया’ भी नींद से जाग गई है और उसने महाराष्ट्र सरकार की इस कार्रवाई की निंदा करते हुए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से अपील की है कि अर्णब गोस्वामी के साथ न्यायोचित व्यवहार किया जाए कंगना और कपिल मिश्रा, दोनों ने अर्णब गोस्वामी की गिरफ़्तारी के लिए उद्धव को निशाना बनाया।

अर्णब गोस्वामी ने अपने रिपोर्टर के सामने पुलिस वैन से अपनी बात रखते हुए बताया कि न केवल पुलिस ने उनके साथ मारपीट व दुर्व्यवहार किया बल्कि उनके बेटे को भी पीटा। उन्होंने बताया कि मुंबई पुलिस ने उन्हें उनके परिवार तक से नहीं मिलने दिया। उन्हें उनके सास-ससुर से भी बात नहीं करने दी गई। चैनल का कहना है कि अर्णब के घर पहुँची पुलिस टीम के पास कोई दस्तावेज या कोर्ट के पेपर तक नहीं थे।

आपको कैसी लगी जानकारी हमें कमेंट में जरूर बताये लाइक और शेयर करना न भूलें ऐसी ही नई नई जानकारी के लिए हमें फॉलो करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.